भूमि सुधार नियमावली को प्रचारित करें : मुख्यमंत्री

पटना बिहार विविध

पटना : राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह ने एक अणे मार्ग स्थित संकल्प में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समक्ष प्रस्तुतीकरण देते हुए कहा कि लैंड रिकॉर्डस, लैड सर्वे एंड सेटेलमेंट,लैंड कॉन्सिडेरेशन एवं लैंड एक्यूजिशन पर विस्तृत जानकारी दी गई|

विभाग की मौजूदा सेवाओं ऑन लाइन म्युटेशन,ऑनलाइन लगान,ऑनलाइन जमाबंदी,ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन एवं विभाग द्वारा आने वाले समय में दी जाने वाली सेवाओं के संबंध में भी जानकारी दी|मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में होने वाले अपराध में कम से कम 60 प्रतिशत मामले भूमि विवाद से जुड़े होते हैं,बिहार में भूमि विवाद के निराकरण हेतु नये सिरे से सर्वे और सेटलमेंट का काम जारी है|मुख्यमंत्री ने कहा कि पारिवारिक बंटवारे की जमीन रजिस्ट्री मात्र सौ रूपये (50 रुपया स्टैंप ड्यूटी और 50 रुपया निबंधन शुल्क है) के सांकेतिक शुल्क पर निर्धारित की गयी है|उन्होंने कहा कि सर्वे सेटेलमेंट के काम को चुनौती के रुप में स्वीकार करते हुए तेजी से काम को पूरा करें|

राज्य में विकास के अनेक कार्य हो रहे हैं,जिससे जमीन की कीमतें भी बढ़ रही है,इसलिए जमीन से संबंधित विवादों का निपटारा जरुरी है|नए सर्वे सेटेलमेंट से जमीन संबंधी विवादों का समाधान तो होगा ही साथ ही इससे फसलों की उत्पादकता बढ़ेगी और समाज में अमन चैन का माहौल भी बना रहेगा|उन्होंने कहा कि लोगों में भूमि सुधार एवं उसकी नियमावली को प्रचारित किया जाय जिससे विभाग द्वारा किए जा रहे भूमि सुधार से संबंधित कार्यों की जानकारी लोगों को मिल सके|मुख्यमंत्री ने कहा कि लोक सेवा का अधिकार कानून एवं लोक शिकायत निवारण अधिकार कानून के अंतर्गत दाखिल-खारिज एवं राजस्व से संबंधित जो मामले लंबित हैं,उसके समाधान के लिए  तेजी लाएं|बैठक मे उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी,राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री राम नारायण मंडल,मुख्य सचिव दीपक कुमार,अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन एवं गृह विभाग आमिर सुबहानी,प्रधान सचिव राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग विवेक कुमार सिंह,मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार,बिहार राज्य कर्मचारी चयन आयोग के अध्यक्ष रवींद्र कुमार,मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार,अपर सचिव मुख्यमंत्री सचिवालय चंद्रशेखर सिंह,मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह,राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग एवं निबंधन विभाग के अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *