आपदा से लाखों मानव का जीवन होता है प्रभावित : चोंग्थू

पटना बिहार विविध

पटना : समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में बिहार राज्य आपदा प्रबंधन समिति एवं जिला प्रशासन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए पटना प्रमंडल के आयुक्त राॅबर्ट एल चोंग्थू ने कहा कि बिहार मुख्य रूप से ग्रामीण पृृष्ठ भूमि के साथ-साथ एक बहु-आपदा प्रवण राज्य है|बिहार की भू-परिस्थिति, सामाजिक एवं आर्थिक संरचना इसे अनेकों आपदाओं के प्रति संवेदनशील बनाती है,यहां रहने वाले लाखों मानव का जीवन इन आपदाओं से प्रभावित होता रहता है|इस राज्य में विभिन्न प्रकार की प्राकृतिक एवं मानव-जनित आपदाओं बाढ़़, सुखाड़,भूकम्प,आग,चक्रवात,तूफान,सड़क दुर्घटना,भगदड़, महामारी,नौका दुर्घटना,वज्रपात,तूफान,शीतलहर एवं गर्म हवाओं के कारण समय-समय पर जान-माल की क्षति होती रहती है|बिहार में प्राकृतिक आपदाओं के साथ-साथ मानव-जनित आपदाएं,पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन संबंधी प्रभाव भी देखने को मिलती हैं|

प्राकृतिक एवं मानव जनित आपदाओं के न्यूनीकरण एवं प्रत्युतर तैयारियों को संस्थागत रूप देकर अधिक प्रभावशाली बनाने की दिशा में बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण अग्रसर है|इसी क्रम में प्राधिकरण द्वारा एक Database Bihar State Disaster Recourse Network (BSDRN) तैयार किया जा रहा है, जिसमें आपदा प्रबंधन, मुख्यता प्रत्युतर के लिए उपयोगी संसाधनों को सूचीबद्ध करते हुए Online किये जाने का प्रावधान है|BSDRN की स्पापना का उद्देश्य एक ऐसा राज्य स्तरीय Database तैयार करना है जो किसी आकस्मिक दुर्घटना या आपदा के प्रबंधन के समय विभिन्न हितभागियों एवं प्रशासन को उपलब्ध संसाधनों की जानकारी प्रदान करेगा,यह जानकारी सभी आपदा प्रबंधकों को विभिन्न स्तर पर उपलब्ध होगी|BSDRN एक वेब आधारित प्लेटफार्म होगा जो विभिन्न उपकरणों, प्रशिक्षित मानवीय संसाधनों एवं अत्यावश्यक सामग्रियों की जानकारी आपदा रिस्पांस के लिए उपलब्ध करायेगा|इसका प्रमुख उद्देश्य आपदा के समय उपयोग होने वाले उपकरणों एवं मानव संसाधनों के विषय में सही जानकारी उपलब्ध कराना है,जिससे किसी भी आपदा का सामना तत्परता से किया जा सके|

इसके माध्यम से विभिन्न जिलों में विभिन्न आपदाओं के प्रति तैयारियों का अनुमान आपदा से पूर्व लगाया जा सकेगा|इस अवसर पर सदस्य बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकारण पीएन राय ने प्रशिक्षण कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि BSDRN की Online inventory प्राधिकरण की वेबसाईट पर Host की जायेगी|इसमें कोई भी संस्था,संगठन, विभाग या व्यक्ति अपने पास उपलब्ध संसाधन जो बाढ़, सुखाड़, सड़क दुर्घटना, नाव दुर्घटना, भूूकम्प एवं अन्य आपदाओं के समय त्वरित कार्रवाई के लिए प्रयोग में लाए जायेंगें को डेटा बेस में अंकित कर सकता है|संगठन, संस्था या व्यक्ति अपने पास उपलब्ध संसाधन उपकरण, सामग्री को किस कीमत पर देगा वो भी अंकित किया जा सकता है|इस अवसर पर जिलाधिकारी कुमार रवि ने प्रशिक्षण कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि Database Bihar State Disaster Recourse Network (BSDRN)  बहुत उपयोगी पोर्टल तैयार किया गया है, उन्होंने सभी उपस्थित पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि अपने-अपने विभाग में उपलब्ध संसाधन का इंट्री वेब पोर्टल पर करना सुनिश्चित करें|

यह पोर्टल विभिन्न उपकरणों, मानवीय संसाधनों एवं अत्यावश्यक सामग्रियों की जानकारी आपदा रिस्पांस के लिए उपलबध करायेगी,इससे आपदा के समय पीड़ितों की जान बचाई जा सकेगी साथ ही जिलाधिकारी ने आवश्यकतानुसार पोर्टल में सुधार का भी सुझाव दिया|इस अवसर पर आयुक्त पटना प्रमंडल आरएल चोंग्थू के साथ सदस्य बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण पीएन राय,जिलाधिकारी कुमार रवि,सीनियर तकनीकी परामर्शी बिहार राज्य आपदा प्राधिकरण सतेन्द्र कुमार,सचिव क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकारी पटना प्रमंडल सुशील कुमार, अपर समाहर्ता आपदा प्रबंधन मोईजुद्दीन,अपर जिला दंडाधिकारी आपूर्ति निर्मल कुमार सहित सभी संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *