मुख्यमंत्री

सड़क की तरह पुलों का भी हो रखरखाव : मुख्यमंत्री

पटना बिहार विविध

पटना : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार राज्य पुल निर्माण निगम लिमिटेड की 492.25 करोड़ रूपये की लागत से निर्मित 48 परियोजनाओं का उद्घाटन एवं 105.25 करोड़ रूपये की लागत वाली 5 परियोजनाओं का शिलान्यास रिमोट के माध्यम से किया| कार्यक्रम का दीप प्रज्ज्वलित कर मुख्यमंत्री ने उद्घाटन किया|मुख्यमंत्री के समक्ष बिहार राज्य पुल निर्माण निगम पर आधारित लघु फिल्म प्रदर्शित की गयी|

बिहार राज्य पुल निर्माण निगम के 44वें स्थापना दिवस के मौके पर तत्कालीन जिलाधिकारी दरभंगा एवं वर्तमान में मुख्यमंत्री के संयुक्त सचिव सह निदेशक सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग चंद्रशेखर सिंह,गोपालगंज के जिलाधिकारी अनिमेश पराशर,सारण के जिलाधिकारी सुब्रत सेन सहित बिहार राज्य पुल निर्माण निगम लिमिटेड से जुड़े अधिकारियों एवं संवेदकों को उत्कृष्ट कार्य के लिये मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया|पथ निर्माण मंत्री नन्दकिशोर यादव ने बिहार राज्य पुल निर्माण निगम की ओर से मुख्यमंत्री को मुख्यमंत्री राहत कोष के लिये 1 करोड़ पांच लाख रूपये का चेक प्रदान किया|समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार राज्य पुल निर्माण निगम मरणासन्न स्थिति में आ गया था,लेकिन 2006 से इसे पुनर्जीवित करने की दिशा में काम शुरू किया गया,आज स्थिति यह है कि पुल निर्माण निगम के द्वारा हजारों छोटे-बड़े पुलों का गुणवत्ता के साथ निर्माण किया गया है|उन्होंने कहा कि सड़क हो या पुल उसकी गुणवत्ता, निर्धारित समय सीमा के अंदर निर्माण कार्य और उसका रखरखाव तीन सबसे अहम चीज होती है,हमलोगों ने हर क्षेत्र में रख-रखाव के लिए नई नीतियां बना दी है|

मुख्यमंत्री ने सुझाव देते हुए कहा कि सड़कों की तरह पुलों का भी रखरखाव होना चाहिए,उन्होंने कहा कि रेलवे में रेल पुलों के रखरखाव के लिए एक अलग विंग होता है जो निरंतर उसकी देखरेख करता है,उसी तर्ज पर पथ निर्माण विभाग और पुल निर्माण निगम को भी व्यवस्था सुनिश्चित करनी चाहिए जिससे पथों एवं पुलों का निरंतर मेंटेनेस होता रहे|मुख्यमंत्री ने कहा कि अच्छी सड़कें बनने से कुछ लोग तेजी से वाहन चलाते हैं,जिसके कारण सड़क दुर्घटनाएं होती है,सड़क दुर्घटनाओं में कमी लायी जाए,इसके लिए ब्लैक स्पॉट को चिन्हित करते हुए दुर्घटना के कारणों का भी पता लगाया जा रहा है|इसके अलावा अंडरपास, ओवरब्रिज और एलिवेटेड रोड बनाया जा रहा है|मुख्यमंत्री ने पथ निर्माण मंत्री से कहा कि हम तो यही कहेंगे कि आरओबी बनाने का काम बिहार राज्य पुल निर्माण निगम को ही दे दीजियेगा क्योंकि आरओबी बहुत ही सेंसिटिव होता है,इसमें रेलवे के पैसे से ब्रिज जबकि राज्य सरकार के पैसे से एप्रोच्च रोड बनना है|

कहा कि पुल निर्माण निगम का लक्ष्य बिहार के बाहर भी काम करने का है |एनएचएआई से काम भी मिला है,उन्होंने कहा कि मुझे पूरा भरोसा है कि पुल निर्माण निगम गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए इसी मुश्तैदी के साथ आगे भी काम करता रहेगा|समारोह को उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी,पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव एवं बिहार राज्य पुल निर्माण निगम लिमिटेड के अध्यक्ष जितेन्द्र श्रीवास्तव ने भी संबोधित किया|इस अवसर पर मुख्य सचिव दीपक कुमार,मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार,परिवहन सचिव संजय अग्रवाल,मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार,मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह,मुख्यमंत्री के संयुक्त सचिव चंद्रशेखर सिंह सहित बिहार राज्य पुल निर्माण निगम एवं पथ निर्माण विभाग से जुड़े अधिकारी,अभियंता एवं संवेदक उपस्थित थे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *