मुख्यमंत्री

विकास का हमारा नजरिया सार्वभौमिक है : मुख्यमंत्री

पटना बिहार विविध

पूर्णिया/पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जदयू द्वारा आयोजित पूर्णिया प्रमंडल स्तरीय दलित-महादलित सम्मेलन में शामिल हुए, पूर्णिया के इंदिरा गांधी स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में आयोजकों एवं जनप्रतिनिधियों ने माला पहनाकर मुख्यमंत्री का स्वागत किया|सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्णिया में दलित महादलित प्रमंडल स्तरीय सम्मलेन के आयोजन के लिये सभी को बधाई देता हूं|अनूसूचित जाति-जनजाति टोलों में प्राथमिकता के तौर पर विकेंद्रीकृत तरीके से योजनाओं को लागू किया जा रहा है, महादलित टोलों में एक-एक सामुदायिक भवन का भी निर्माण कराया गया है| महादलित विकास मिशन की शुरुआत की गयी जिसका लाभ एससीएसटी के लोगों को भी मिल रहा है, बीच में कुछ लोगों के द्वारा भ्रम फैलाने की कोशिश की गयी| हमलोगों ने वर्ष 2006 में पंचायती राज एवं नगर निकाय चुनावों में अध्यादेश लाकर आरक्षण लागू किया, हर घर तक पक्की गली-नाली का निर्माण हर तबके और हर इलाके के लिए है,विकास का हमारा यही नजरिया है|मुख्यमंत्री ने कहा कि 31 दिसम्बर तक हर घर बिजली पहुंचाने का लक्ष्य था, जिसे बिजली विभाग ने 31 अक्टूबर तक हासिल करने को लेकर मुझे आश्वस्त किया है|विकास का हमारा नजरिया सार्वभौमिक है, जिसका लाभ सभी को मिलता है, इसी दृष्टिकोण के साथ हम आगे बढ़ रहे हैं|मुख्यमंत्री ने कहा कि सत्ता संभालने के बाद जब ये सर्वे कराया तो पता चला कि 12.5 प्रतिशत बच्चे स्कूलों से बाहर हैं, इनमें ज्यादातर बच्चे महादलित एवं अल्पसंख्यक समुदाय से थे, इन सबके लिये टोला सेवक एवं तालिमी मरकज के लगभग 30 हजार लोगों का चयन किया गया और उनके माध्यम से उन्हें स्कूलों तक पहुंचाया गया|मुख्यमंत्री श्री कुमार ने कहा कि अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति छात्रावास का बेहतर तरीके से निर्माण कराया गया और पुराने छात्रावासों को भी नए सिरे से बनवाया जा रहा है|मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति उद्यमी योजना के तहत उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए 10 लाख रुपए की राशि, जिसमें 5 लाख रुपये अनुदान के रुप में एवं बाकी के 5 लाख रुपए ब्याज मुक्त ऋण के रुप में उपलब्ध कराया जाएगा, उद्यमिता की ट्रेनिंग के लिए भी सहायता दी जा रही है|उन्होंने कहा कि बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अनुसूचित जाति, अनूसूचित जनजाति एवं अतिपिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों को 50 हजार रुपए की राशि एवं यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अनुसूचित जाति, अनूसूचित जनजाति एवं अतिपिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों को एक लाख रुपए की राशि मुख्य परीक्षा की तैयारी के लिए दी जा रही है| पहले से भी लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं की तैयारी के लिए दलित, पिछड़ों, अति पिछड़ों एवं अल्पसंख्यकों के लिये कोचिंग की व्यवस्था की गयी है| मुख्यमंत्री ने कहा कि 12वीं उत्तीर्ण विद्यार्थियों के लिए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के तहत 4 लाख रुपये के ऋण की व्यवस्था की गयी है,आपलोग चिंतामुक्त होकर पढ़िए, अगर पैसा लौटाने में अक्षम होंगे तो ऋण माफ भी किया जा सकता है|मुख्यमंत्री ने कहा कि “मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना” के तहत 4 से 10 लोगों की क्षमता वाली सवारी गाड़ी के लिए प्रत्येक ग्राम पंचायत से 5 लोगों को आर्थिक मदद दी जा रही है, इसमें से अनुसूचित जाति एवं जनजाति के 3 लोगों एवं अतिपिछड़ा वर्ग के 2 लोगों को वाहन खरीदने के लिए राज्य सरकार एक लाख रुपए तक की सहायता राशि उपलब्ध कराएगी, इससे लोगों में रोजगार पैदा होगा और आवागमन में सुविधा होगी, यह योजना समस्तीपुर पंचायत से शुरू हो गयी है|दलित-महादलित सम्मेलन को भवन निर्माण मंत्री महेश्वर हजारी, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण मंत्री रमेश ऋषिदेव, सांसद संतोष कुशवाहा, विधायक श्याम रजक, विधान पार्षद अशोक चौधरी, विधायक नौशाद आलम, विधायक श्रीमती बीमा भारती, विधायक श्रीमती लेसी सिंह ने भी संबोधित किया|इस अवसर पर पूर्णिया के प्रभारी मंत्री दिनेश चंद्र यादव, शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, परिवहन मंत्री संतोष निराला, सांसद आरसीपी सिंह, विधायक रत्नेश सदा, विधायक रवि ज्योति, विधायक मुजाहिद आलम, विधान पार्षद संजीव कुमार सिंह, विधान पार्षद ललन सर्राफ, पूर्व मंत्री दुलाल चंद गोस्वामी, पूर्व विधान पार्षद ललन तांती, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा सहित बड़ी संख्या में जदयू कार्यकर्ता एवं आमलोग उपस्थित थे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *