कोरोना से पूर्णिया के आईजी की मौत

बिहार

पटना : कोरोना की रफ्तार बिहार में एक बार फिर जोर पकड़ने लगा है | सप्ताह भर के अंदर मंत्री ,पत्रकार और पुलिस अफसर की मौत हो हो गयी |प्रतिदिन बिहार में 1000 से अधिक करोना के मरीज मिल रहे हैं। बावजूद यहां के नेताओं पर कोरोना का असर नहीं दिख रहा है । चुनावी रैलियां में हजारों की भीड़ जुटाकर भाषण पिला रहे हैं ।

एम्स में हुई मौत

कोरोना से पूर्णिया रेंज के आईजी विनोद कुमार की मौत हो गई. जिसके बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है. कुछ दिन पहले तबीयत खराब होने के बाद आईजी विनोद कुमार ने कोरोना जांच कराया था. जिसमें वो संक्रमित पाए गए थे. कोरोना होने के बाद उनका इलाज पूर्णिया में ही चल रहा था. दो दिन पहले तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें इलाज के लिए पटना एम्स में भर्ती कराया गया था. जहां उनकी हालत बिगड़ती जा रही थी. उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था. इलाज के दौरान शनिवार की एम्स में उनका निधन हो गया. 

दो दिनों पहले हुई थी मंत्री की मौत

16 अक्टूबर को कोरोना से बिहार सरकार के पंचायती राज मंत्री कपिल देव कामत का निधन हो गया. मधुबनी के बाबूबरही से कपिल देव कामत विधायक थे. कई दिनों से कपिलदेव कामत की स्थिति नाजुक बनी हुई थी. जिसके बाद उनको एम्स में भर्ती कराया गया था. लेकिन इलाज के दौरान उनका निधन हो गया. 12 अक्टूबर को बिहार सरकार के मंत्री विनोद सिंह का निधन हो गया था16 अगस्त को ब्रेन हेमरेज हुआ. ब्रेन हेमरेज के बाद मंत्री विनोद सिंह को तत्काल पटना के एक हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया. फिर यहां से उनको एयर एंबुलेंस से दिल्ली भेज गया. पिछड़ा-अति पिछड़ा कल्याण मंत्री  विनोद सिंह 28 जून को कोरोना संक्रमित पाए गए थे. कुछ दिनों के बाद वह ठीक हुए, लेकिन इस बीच ब्रेन हैमरेज हो गया. जिसके बाद उनका इलाज दिल्ली के मेदांता में चल रहा था.

दो पत्रकारों की हुई मौत

14-15 अक्टूबर के बीच पटना के दो सीनियर पत्रकारों रवि दयाल व फोटोजर्नलिस्ट केएम शर्मा की कोरोना से मौत हो गई. दोनों अंग्रेजी दैनिक टाइम्स ऑफ इंडिया से रिटायर हुए थे । रिटायर होने के बावजूद काम कर रहे थे | इसमें से एक चुनावी सभा के दौरान संक्रमित हुए थे. कई संक्रमित होकर ठीक हुए. अभी भी कई पत्रकार व नेता कोरोना की चपेट में है । उनका इलाज चल रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *