एनडीए को हराने के लिए हमें देनी पड़ी कुछ सीटों की कुर्बानी: तेजस्वी

पटना बिहार राजनीति

महागठबंधन में हो गया सीटों बंटवारा

144 सीटों पर RJD, 70 सीटों पर कांग्रेस और 29 पर लेफ्ट पार्टियां लड़ेंगी चुनाव

पटना। महागठबंधन में शनिवार शाम को सीटों के बंटवारे की घोषणा हो गई। राजद ने अपने लिए 144 सीटें रखी। इसमें वह वीआईपी और जेएमएम को भी हिस्सा देगी। कांग्रेस की मांग पूरी हुई है। उसे विधानसभा की 70 सीटें देने के साथ ही वाल्मीकिनगर में होने वाले लोकसभा के उपचुनाव का भी टिकट दिया जाएगा है। इसी तरह भाकपा को 6, माकपा को 4 और भाकपा माले को 19 सीटें दी गई हैं।

वीआईपी प्रमुख बीच प्रेस कॉन्फ्रेंस में उठकर चले गए

तेजस्वी यादव ने जैसे ही सीटों की घोषणा की वीआईपी प्रमुख मुकेश सहनी बीच प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही उठकर चले गए।तेजस्वी ने मुकेश सहनी की पार्टी को अलग से कोई सीट देने की घोषणा नहीं की बल्कि यह कहा कि वीआईपी और जेएमएम राजद के कोटे वाली 144 सीटों पर ही हिस्सेदारी करेगी। यह फैसला मुकेश सहनी को नागवार गुजरा और उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस का बहिष्कार कर दिया। उनके ऐसा करते ही वीआईपी के समर्थक और कार्यकर्ता प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही हंगामा करने लगे। होटल के परिसर में भी कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया और तेजस्वी यादव मुर्दाबाद के नारे लगाए।

बाहर निकलकर मुकेश सहनी ने कहा कि वीआईपी अब महागठबंधन छोड़ रही है। राजद ने हमारी पीठ में छुरा घोंपा है। हमें 25 सीटें और उप मुख्यमंत्री पद देने का वादा किया गया था। ऐसा कुछ नहीं हुआ। इसलिए अब वीआईपी महागठबंधन का हिस्सा नहीं रही।  वहीं, राजद के प्रवक्ता शक्ति सिंह ने कहा कि मुकेश सहनी ने जो किया वह पहले से सुनियोजित था। उनसे सीटों को लेकर कोई बात नहीं हुई थी। उन्होंने खुद कहा था कि उन्हें जो सीटें मिलेंगी मंजूर होगी। सीटों पर फाइनल बात मुकेश सहनी से नहीं हुई थी। उनको प्रेस कॉन्फ्रेंस में बुलाया भी नहीं गया था। वह बिना बुलाए ही आए थे।

144 सीटों पर करना पड़ा समझौता

राजद पहले 150 से अधिक सीट पर उम्मीदवार उतारने की बात कर रहा था, लेकिन उसे 144 सीटों पर समझौता करना पड़ा। इसके बचाव में तेजस्वी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हमारे कुछ साथियों को एनडीए को हराने के लिए कुर्बानी देनी पड़ी है। हम उनकी कुर्बानी की रक्षा करेंगे। महागठबंधन में शामिल दलों ने मेरे नेतृत्व पर विश्वास किया है उसके लिए मैं सभी को धन्यवाद देता हूं।

वर्तमान सरकार कीचड़ वाले सड़े हुए पानी की तरह हो गई है

तेजस्वी ने कहा कि मैं सभी के विश्वास पर खरा उतरूंगा। अगर जनता हमें मौका देगी तो हम सभी के मान सम्मान की रक्षा करेंगे। सभी की सुरक्षा करेंगे। हमने बिहार की तरक्की के लिए एक मजबूत विकल्प जनता से सामने रखा है। उन्होंने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि डबल इंजन की सरकार आईसीयू में है। नीतीश सरकार गरीबी और भुखमरी को हटा नहीं पाई। गरीबों पर लाठी चलवाए। तेजस्वी ने कहा कि हम ठेठ बिहारी हैं, जो वादा करते हैं उसे पूरा करते हैं। हमारा डीएनए पूरी तरह शुद्ध है। हम बिहार को शुद्ध जल की तरह बढ़िया विकल्प देंगे। वर्तमान सरकार कीचड़ वाले सड़े हुए पानी की तरह हो गई है। बिहार की जनता को नदी की तरह बहते शुद्ध पानी जैसी सरकार की जरूरत है। हम पहली कैबिनेट में पहली कलम से 10 लाख स्थायी और सरकारी नौकरी देंगे। नौकरी के लिए आवेदन भरने की फीस भी नहीं लगेगी।

बड़े भाई की भूमिका में रहेगा राजद
इससे पहले राजद के सांसद मनोज झा ने हाथरस की घटना पर केंद्र और यूपी सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि हाथरस की घटना ने बता दिया है कि इस देश में कानून सबके लिए एक नहीं है। कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी के चेयरमैन अविनाश पांडेय ने कहा कि कई वैचारिक मत भिन्नताओं के बावजूद महागठबंधन एक मजबूत गठजोड़ के रूप में उभरा है। राजद महागठबंधन में बड़े भाई की भूमिका में रहेगा। उन्होंने नीतीश कुमार पर भी जमकर निशाना साधा। कहा कि भाजपा से हाथ मिलाकर नीतीश कुमार ने जनमत का अपमान किया है। तेजस्वी यादव युवाओं का चेहरा हैं। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार को हटाना ही महागठबंधन का एकमात्र लक्ष्य है।

होटल मौर्या में आयोजित महागठबंधन के प्रेस कांफ्रेंस में सीट बंटवारे की घोषणा से पहले हाथरस की घटना पर एक मिनट का मौन रखा गया। प्रेस कांफ्रेंस में राजद की ओर से तेजस्वी यादव के अलावा तेजप्रताप यादव, मनोज झा, जगदानंद सिंह और आलोक मेहता मौजूद थे। कांग्रेस की तरफ से सदानंद सिंह, अविनाश पांडेय, भाकपा-माले के दीपांकर भट्टाचार्य, माकपा के अवधेश कुमार, भाकपा के रामनरेश पांडेय और वीआईपी के मुकेश सहनी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *