परिचालन नीति

ख़ातियानी नक्शा के आधार पर नाला की जाँच की जाएगी: आयुक्त

पटना बिहार विविध

पटना। आयुक्त पटना प्रमंडल संजय कुमार अग्रवाल ने आज पटना अवस्थित मुख्य नालों के उड़ाही के संबंध में भौतिक  सत्यापन ,उसकी मापी,मापी के दौरान अतिक्रमित भूमि को चिन्हित करते हुए अतिक्रमणमुक्त करने एवं उसके उड़ाही से संबंधित  प्रतिवेदन की समीक्षा  की। समीक्षा के क्रम में आयुक्त ने नगर आयुक्त पटना नहर निगम एवम अपर समाहर्त्ता राजस्व के नेतृत्व में बादशाही पाईंन सहित 9 नालों को अतिक्रमण मुक्त कराते हुए नालों के उड़ाही का निर्देश दिया। इसके लिए जल संशाधन, जिला प्रशासन ,नगर निगम एवम पथ निर्माण विभाग की संयुक्त 09 टीमों का गठन हुआ है।

आयुक्त ने निर्देश दिया कि बादशाही पाईंन सहित आनंदपुरी नाला,पटेल नगर नाला,सैदपुर नाला सैदपुर से शनिचरा तक, जोगीपुर संप हाउस से बायपास होते हुए पहाड़ी तक अवस्थित NBCC द्वारा निर्मित नाला,  नंदलाल छपरा से मीठापुर तक  बायपास किनारे अवस्थित नाला,बाकरगंज नाला ,कुर्जी नाला दीघा आशियाना पथ  तथा एयरपोर्ट से राजधानी वाटिका होते अशोक राजपथ सरपेंटेंन/मंदिरी नाला का विस्तृत सर्वेक्षण होगा। ख़ातियानी नक्शा के आधार पर नाला की जाँच की जाएगी।

आयुक्त ने बताया कि  नालो को भर कर  कलवर्ट  एवम पुल बना दिया गया है। कही -कहीं अतिक्रमित कर मिट्टी भरकर  नालों के ऊपर रोड बना दिया गया है।इस तरह के कच्चा -पक्का  अतिक्रमण को हटाया जाएगा। आयुक्त ने बताया कि बादशाही पाईंन सहित सभी नालों  पर से अतिक्रमण हटा कर उड़ाही करने का निर्देश दिया गया है ताकि सभी नालों से पानी का प्रवाह लगातार होता रहे,जल जमाव की समस्या उत्पन्न न हो। समीक्षा के क्रम में आयुक्त ने बताया कि पहले बादशाही पाईंन से अतिक्रमण हटाया जाएगा ।इसके बाद सभी मुख्य नालों पर से अतिक्रमण हटाया कर उड़ाही किया जाएगा।

जिला दंडाधिकारी विधि व्यवस्था,अनुमंडल पदाधिकारी सदर एवम अंचलाधिकार सदर को निर्देश दिया गया है कि नंदलाल छपरा में बादशाही नाला के आधा किलोमीटर की नापी में  लगभग 05 पक्का मकानों के द्वारा अतिक्रमण  को हटाया जाय। अंचलाधिकारी संपतचक को निर्देश दिया है कि  संपतचक अंचल अंतर्गत कुल 02 कि 0मी0 में लगभग 19 पक्का मकान नाला को अतिक्रमित कर बनाया गया है।इसे अतिक्रमण मुक्त किया जाय।समीक्षा के क्रम में आयुक्त ने अंचलाधिकारी फुलवारीशरीफ को फुलवारीशरीफ अंचल अंतर्गत कुल 60 कच्चा/पक्का मकानों के द्वारा नाला पर अतिक्रमण किये गए अतिक्रमण को हटाने का निर्देश दिया ताकि जल जमाव की समस्या उत्पन्न न हो।

समीक्षा के क्रम में आयुक्त ने पाया कि दानापुर में कुल 04 कि0मी0 में 02 नाला का नापी कराया गया है, जिसमें अतिक्रमण नही है। आयुक्त ने  समीक्षा के क्रम में निर्देश दिया कि पटना सदर अंतर्गत कुल-09 नाला का सर्वे किया जाय। उन्होंने अपर समाहर्त्ता राजस्व, अंचलाधिकारी पटना सदर को निर्देश दिया कि नालों का सर्वेक्षण कराया जाय। पहले फुट पेट्रोलिंग करें, इससे यह स्पष्ट हो जाएगा कि कौन-कौन अतिक्रमण कब किया गया है। किसी भी नाला के किनारे परती/रास्ता का निर्माण किया गया है तो उसे भी अतिक्रमण माना जाएगा। निजी रास्ता, ढ़लाई, पुलिया बनाया गया है, तो उसे भी अतिक्रमणमुक्त कराया जायगा।

आयुक्त ने समीक्षा के क्रम में निर्देश दिया कि सभी अतिक्रमित स्थलों पर लाल निशान लगाया जाय। अतिक्रमित मकानों पर भी लाल निशान लगाया जाय तथा अतिक्रमण अभियान के पूर्व नोटिस निर्गत, तामिला, माईकिंग कराया जाय। जो भी वैधानिक प्रक्रिया है, उसे शीघ्र पूरा कर लिया जाय। आयुक्त ने समीक्षा के क्रम में निर्देश दिया कि अनुमण्डल पदाधिकारियों के नेतृत्व में सदर अंचल अंतर्गत सभी नालों का सर्वे का कार्य किया जाएगा। इस अभियान में तत्परता से व्यक्तिगत निगरानी करते हुए कार्य कराना सुनिश्चित करेंगे।

आयुक्त ने  समीक्षा के क्रम में निर्देश दिया कि अतिक्रमण अभियान चलाने के पूर्व सभी संबंधित मकान मालिकों को सूचित करें कि अतिक्रमित स्थल से खुद खाली, तुड़वा लें नहीं तो फिर प्रशासन द्वारा तोड़ा जाएगा, जिसमें अधिक क्षति होने की संभावना बनी रहेगी। साथ ही उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि सभी यह भी सुनिश्चित कर लें कि निजी स्कूलो/अस्पतालों द्वारा अवैध पार्किंग एवं गार्डन आदि सभी तरह की संरचना को हटाया जाए। आयुक्त ने यह भी निर्देश दिया कि ऐसे सभी नालों जिस पर अतिक्रमण कर निजी भवन बनाए गए है, उसे प्राथमिकता के आधार पर पहले चिन्हित किया जाय। सभी को सूचित किया जाय कि अतिक्रमण हटाओ अभियान में बाधा पहुंचाने वालो पर प्राथमिकी दर्ज कर उचित कार्रवाई की जाएगी। अतिक्रमण हटाओ अभियान दो चरणों में चलाया जायगा। पहला चरण दिनांक-13.11.2019 से 20.11.2019 तक चलाया जायेगा।

आयुक्त ने निर्देश दिया कि दूसरे चरण में दिनांक- 29.11.2019 से 30.11.2019 मे चलाया जायेगा। आयुक्त ने अधीक्षण अभियंता, जल संसाधन विभाग को निर्देश दिया कि बादशाही नाला एवं अन्य संबंधित नालों की उड़ाही का कार्य किसी अभियंता को ही दिया जाय, ताकि कार्य को शीघ्रता से पूर्ण किया जा सके। आयुक्त ने अनुमंडल पदाधिकारी एवं भूमि सुधार उप समाहर्त्ता को निर्देश दिया कि वे अपने-अपने अनुमंडल अंतर्गत अभियान का पर्यवेक्षण करेंगे, ताकि निर्धारित समय में कार्य को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराया जा सके।आयुक्त ने समीक्षा के क्रम में निर्देश  दिया कि बादशाही पाईंन   पर से अतिक्रमण हटाने के लिए कुल-06 टीमों का गठन किया जाए, जिसमें से 03 टीम को अंचल-सदर, पटना, 02 टीम को अंचल-संपतचक एवं अंचल-फुलवारीशरीफ में 01 टीम को लगाया जएगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *